Tuesday, July 5, 2016

कहानी ....... जिजीविषा

बात बहुत पुरानी नही हैं l मात्र तीस वर्ष पहले की है l दो साल पुराना ब्याह l नन्ही नैन्सी गोद में l पलाश अचानक बाइक के तेज चलाने के शौक में अपने प्राण गँवा बैठे थे l नई ऊम्र, नया जोश, नई-नई शादी जैसे सपनो की दुनियाँ ही मिल गई थी l अभी इतनी परिपक्वता नहीं थी कि समझ पाते की अब उनकी ज़िन्दगी से नैन्सी और शीना की दो जिंदगियाँ और जुड़ चुकी हैं l कभी किसी के टोके जाने पर कहते “मौत तो एक बार आनी है जियेंगे शान से मरेंगे शान से l “ पलाश तेईस साल के शीना अट्ठारह वर्ष की l दोनों ही अभी नादान l पलाश अपने माँ-बाप का इकलौता पुत्र और शीना छ भाई बहनों में सबसे छोटी l छ भाई बहनों में सबसे छोटे होने के कारण शीना ने अभी अपने को बड़ा महसूस ही नहीं किया था l वो घर में सभी की दुलारी थी इसलिए सब उसे बच्चा ही समझते थे और उसपर भी अभी तक कोई जिम्मेदारी नहीं पड़ी थी की वो अपने को बड़ा महसूस कर पाती l दोनों की शादी बड़े धूम-धाम से हुई थी फारेस्ट रेंजर के पद पर पलाश को अपनी प्रतिभा के बल पर जल्दी ही नौकरी मिल गई थी l नौकरी लगी नहीं की लोग लड़की के रिश्ते ले कर आने लगे l शीना के पिता भी अब रिटाएर होने वाले थे और एक मात्र अनब्याही पुत्री का ब्याह कर वो भी सेवानिवृत्त के बाद का अपना समय भार मुक्त हो बिताना चाहते थे l अत: अपने ही विभाग में उन्हें पलाश पसंद आ गया l रोज़ सामने रहने के कारण देखा भला था l दोनों विवाह के बंधन में बंध गए l अब एक छोटा सा परिवार था उनका, माँ, पलाश, शीना और नैन्सी l गाँव में पलाश के दो चचेरे भाई थे l किन्तु कहाँ पलाश का हंसमुख, दयावान, प्रेमिल व्यक्तित्व और कहाँ उसके चचेरे भाइयों का लोभी क्रूर, व्यवहार और पिछड़ी विचारधारा l शुरू से ही उनका साथ कम रहा l कुछ विचारों ही असंगति के कारण से, कुछ शहर में पढने और फिर नौकरी के कारण l लेकिन नियति में सब निश्चित है उसपर किसी का बस नहीं l एक दिन तेज मोटरसाइकिल के सामने कोई आ गया उसे बचाते-बचाते पलाश खुद अपनी जान गँवा बैठे l नवविवाहित शीना के लिए ये अप्रत्याशित दुखद घटना थी l  उसके मन पर गहरी चोट लगी l शीना कभी इस आघात से पागल सी हो जाती कभी किंकर्तव्यविमूढ l उसे कुछ समझ में न आता था ये क्या हो गया ? नैन्सी का ख़याल भी उसे न रहता कोई लाकर गोद में दे दे तो उसका पेट भर जाए वरना वो भूखी ही पड़ी रहे l लुभावनी नैन्सी कभी इस अंक तो कभी उस अंक l पलाश की माँ का भी यही हाल l जिसका एक मात्र जवान पुत्र चल बसा हो उस माँ के ह्रदय का हाल कौन नहीं महसूस कर सकता ? जैसा हाल शीना का उससे भी बदतर माँ का l कौन किसको सान्त्वना दे l शव पैत्रिक निवास गाँव भंदियारपुरुवा लाया गया l रिश्तेदार इकठ्ठा होने लगे सबका अपना-अपना राग अलाप l कोई सात माह की नैन्सी को दोषी ठहराता कोई शीना को कोसता l धन के लोभी अलग ताक लगाने लगे l एक मात्र वारिस चला गया l औलाद भी है तो वो भी बेटी l एक मात्र रोड़ा शीना ही है उन चचेरे भाइयों के दस्यू मन ने झकझोरा और बूढी चाची को अब क्या चाहिए l अगर शीना पलाश के साथ ही चिता में सती हो जाए तो सारा बवाल ही ख़तम, उनके कुटिल दिमाग में बैठा काला गिद्ध चिल्लाया l  

माँ अपने बेटे-बहु और पोती से बहुत प्यार करतीं थी लेकिन इस समय जो उनकी हालत थी की उनसे कुछ भी करा लो विरोध करने की शक्ति चली गई थी l अपनी प्यारी बहू की बिंदिया पोछे जाने पर न उन्होंने विरोध किया न पत्थर से चूड़ियाँतोड़ी जाने पर l वह सूनी आँखों से खोई खोई सब देख रहीं थीं या विचारमगन कुछ सोच रहीं थीं l दुर्घटना से जुड़े मुख्य सदस्य तो बेजान हो गए थे l दाह संस्कार का समय हो गया था l अर्थी उठी, पलाश को अपने से दूर जाते देख कर माँ तो बेहोश हो गईं और शीना बिन पानी की मछली जैसी तड़प उठी l अभी कितने दिन का सानिध्य पा सकी थी पलाश का वह ? अभी तो अरमानो ने सिर्फ पर ही खोले थे l दोनों ने मात्र सपने सजाये थे उसमे उड़ान और रंग भरना तो अभी बाकी ही था l वो दहाड़ मार-मार के रो उठी l वो भी अर्थी के पीछे दौड़ती चली गई l उसकी ये स्थिति देख चचेरे देवर ने कहा भाभी अगर चाहो तो दाह स्थल तक तुम भी चल चलो l शीना भी उस छोटे से दल में गिरती पड़ती रोटी चिल्लाती जा रही थी l पास ही तालाब पारकर शव जलाया जाता था l छोटा सा स्थान l अधिकतर जमीन को हथिया लोगों ने झोपड़ियाँ डाल लीं थीं l निर्जन सा इलाका प्राणहीन l जैसा स्थान वैसी मानसिकता से परिपूर्ण l जहाँ विधवा अगर जीवित है तो एक जानवर और वस्तु से कम नहीं l चार पैसे वाले लार टपकाते मिल जाएंगे उनसे बचो तो जियों अस्तित्वहीन हो कर l पिछड़ा इलाका पति के मरने के बाद भी पति का लोक ही पत्नी का लोक होता है l ऐसी मान्यता रखने वाला l पीढ़ियों से अपने स्वार्थ लाभ के लिए थोपे जाते रहे हैं ऐसे विचार कपटी पुरुषों द्वारा l  पीढ़ी दर पीढ़ी उनका मस्तिष्क सुन्न कर दिया गया है वहाँ l शीना को बाध्य किया जाने लगा पलाश के साथ सती होने के लिए l दुःख से आहत होते हुए भी शीना अपनी एस अप्रत्याशित आत्महत्या के लिए तैयार नही थी l वो अवाक रह गई l  गाँव के लोग उसे समझा रहे थे कोई कहता अब बिना पति के क्या जीना ? दुनिया जीना दूभर कर देगी l पुराने समय से पति के साथ स्त्रियाँ सती होती आईं हैं l एक बार विवाह हो जाने पर स्त्री का सम्पूर्ण अस्तित्व पति में समाहित हो जाता है , न तन उसका, न मन उसका, न धन उसका, कुछ उसका अपना नहीं रह जाता l एक व्याहता के लिए पति का लोक ही पुण्य लोक है उसी लोक से पति पत्नी दोनों को मोक्ष की प्राप्ति होती है l

अचानक शीना को ऐसी पिछड़ी सोच से घिन आने लगी l उसकी शिक्षा दीक्षा अधिक नहीं थी लेकिन उसने ऐसी मानसिकता के लोग करीब से नहीं देखे थे l पलाश आधुनिक विचारों का, हर चीज़ को विचारों की कसौटी पर कसने वाला, मस्त पर बुद्धिमान युवक था और सास किसी भी तरह माँ के पद से कम नहीं थीं l एक बार भी उन्होंने शीना को अपनी माँ की कमी महसूस नहीं होने दी थी l  उन्होंने एक माँ की तरह ही दुलार, प्यार और सुरक्षा दी थी अपनी बहू को भी l शीना को इन सम्बन्धियों और स्थानीय लोगों में से कहीं कूटनीति की गंध आने लगी थी l वो इस स्थान से निकलने को छटपटाने लगी l लेकिन सबने जैसे अनर्थ करने की ठान ही ली थी l उसे विरोध से बचाने के लिए सुरापान को देवामृत बता सेवन कराया जाने लगा l ढोल-ताशे नगाड़े बजने लगे, आज एक औरत मानवी से देवी होने वाली थी l करीबी उसे घेरे हुए थे और लोग दूर से मात्र शोर सुन रहे थे और घटना को अनुभव करने की कोशिश कर रहे थे l धीरे-धीरे शीना पर नशा चढ़ने लगा वो नशे में धुत्त हो बावली होने लगी कभी हंसती कभी रोती, न उसे बहू होने की लाज थी न बड़ों का सम्मान l लोग कहते कैसे पति के  दुःख में टूट गई है और सती होने की हठ कर रही है l चिता तैयार हो गई पलाश की चिता धूं-धूँ कर जलने लगी l ढम-ढम कर नगाड़े बजने लगे इतना शोर हुआ कि कान फटने लग गए किसी की आवाज़ किसी को सुनाई न देती थी l नशे में धूत शीना को लोग चिता की ओर घसीट कर ले जा रहे थे l बिखरे बाल, अस्त व्यस्त वस्त्र में शीना घिसटती जा रही थी l इस बेहोशी में भी उसके सामने नन्ही नैन्सी की धुँधली स्मृति मचल रही थी बहुत देर से उससे दूर रहने के कारण स्तन अपने कसाव का बाँध तोड़ दूध की धारा बहाने लगा था l वो अर्धचेतन में भी अपनी बेटी के लिए तड़प रही थी l कुछ ढोंगियों, कुछ लोभियों से ये कार्य हो रहा था l उसे चिता में जबरदस्ती ढकेल दिया गया l तन झुलसने लगा तो वो हाहाकार कर चिल्ला उठी किन्तु उस ढोल-ताशों के बीच उसकी आवाज़ खो कर रह गई l अपना दर्द, अपनी बेटी की चाह ने मातृत्व को जिता दिया वो बदहवास वहाँ से निकल भागी l चार पुरुष के बल पर जिजीविषा और मातृत्व भाव भारी हो गया l उसने सीधे घर आकर साँस ली l अभी तक माँ सोच रहीं थी की शीना रोते-रोते थककर कहीं निढाल हो पड़ सो गई होगी l क्योंकि वो पलाश की विदाई को सहन न कर सकने के कारण बेहोश हो गईं थी और उन्हें उसके बाद का कुछ भी होश नहीं रह गया था l l पर जब रोते रोते शीना ने उसे सब बताया तो वो हतप्रभ रह गई l

परिणामत: पलाश के दोनों चचेरे भाई जेल में थे l गाँव में अपने घर का हिस्सा जरुरातमंद को दान दे शीना और माँ शहर में आ गए थे l शीना सिर्फ आठ पास थी उसे पलाश की जगह पर ऑफिस में एक उसके हिसाब का पद मिल गया l शीना को भी पढाई का महत्त्व समझ में आया l उसने हाईस्कूल का फार्म भरा और अपनी लगन, मेहनत से पास हुई l उसने नौकरी के साथ पढाई जारी रखी और बी०ए० उत्तीर्ण कर स्नातक की डिग्री प्राप्त कर लिया l आठवीं पास अबोध शीना अब अपने डिमार्टमेंट में बैडमिन्टन और शतरंज में राष्ट्रीय स्तर पर खेलने बाहर भी जा रही थी उसका घर शील्ड से भर रहा था l पढ़ाई, ऑफिस, नैन्सी और अपनी सास की देखभाल के साथ वो रोज़ बैडमिन्टन की प्रक्टिस के लिया भी जाती l 

विश्वास नहीं होता ये वही तीस साल पुरानी शीना है l अब एक स्मार्ट, मेहनतकश, पलाश की तरह विचारों को तोल-मोल, परख कर व्यवहार में लाने वाली, l उसने अपने पलाश की एक मात्र निशानी को एम० बी० ए० करा ऊँची शिक्षा दी, शीना और नैन्सी की हर मुश्किल में उसकी दादी माँ उनके साथ थीं l समय पड़ने पर उनके छ हाथ मिलकर एक हाथ हो जाते थे l तीन पीढ़ियों का एक बहुत सुन्दर सामंजस्य l

आज नैन्सी और हर्षित की शादी है l दोनों एक ही कम्पनी में काम करते हैं l दोनों नवयुगल ने पलाश की तस्वीर और माँ शीना के पैर छुए l और दादी माँ के चरण छू उनके बूढ़े कोमल हाँथों से आशीर्वाद लिया l

 अगर मनुष्य जीता रहे तो उसे कभी न कभी हर्ष और आनंद की प्राप्ति जरुर होती है l शीना और उसकी सास हर उस मानसिकता पर करारा तमाचा है जो किसी भी औरत को दकियानूसी विचारधारा के कारण उसे जीने के अधिकार से वंचित करना चाहते हैं l     
.....आदर्शिनी श्रीवास्तव ...

मेरठ 

2 comments:

  1. रूढ़ियों-कुप्रथाओं पर आत्मविश्वास की विजय---
    "क्या कर नहीं सकती भला जो शिक्षिता हों नारियां,
    रण-रंग-राज्य-स्वधर्म रक्षा,कर चुकीं सुकुमारियां!"

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया भैरव जी

    ReplyDelete